akhlesh tomar

I'm From Mandi Bamora,Vidisha. My DOB 19.08.1993

दोस्तों का साथ और कोरोना

जिंदगी का सफर और फिर दोस्तों का साथ हो
हर शाम मस्त और सुबह जैसे नई सौगात हो
बाहर से बड़ी बड़ी बातें, खाली इनके जज्बात हैं
असली दोस्त वही है जो मुसीबत में खड़े साथ हैं

इंसान ही असली माया है बाकी सब मोह माया है
हर पल जिओ भरपूर,कल देख कौन आया है
बहुत कुछ सिखा गया ये वायरस & lockdown हमें
सिटी के mall से ज्यादा ठंडी पीपल की छाया है
और जो दौड़ रहे थे पैसे के पीछे अपनी आंखे मीचे
वापस लौट गांव की मिट्टी चूम रहे हैं किये सर नीचे।।
94 Total read