Muskan Sharma

July 7,2001 - Kurukshetra
Send Message

तू कब तक यूँ सहेगी

तू कब तक यूँ सहेगी
तू कब तक यूँ सहेगी
तू कब तक यूँ चुप रहेगी
तू कब तक अपने आपको रोकेगी
तू कब तक यूँ सहेगी।

किसी का तुझको यूँ नीचा दिखाना
किसी का तुझपर यूँ हाथ उठाना
किसी का तुझे यूँ चुप करवाना
तू कब तक यूँ सहेगी।

कर सवाल अपने आप से
खुदको एक बार आयने में देख
कौन है तू, क्या अस्तित्व है तेरा
कर सवाल अपने आप से।

आज से यह प्रण ले
तू अपने लिए आवाज उठाएगी
खुदको यूँ ना हराएगी
तू काली बनकर दिखाएगी
तू अब नहीं सहेगी
बस अब नहीं सहेगी ।
113 Total read