Sumit Maurya

September 3, 1984 - Earth

मोहलत की छाव

आ निकाले बैठ कर कांटे, इस मोहलत की छांओ में,
गर्म सांसों से लगता है कि कुछ दूर तो आ चुके हैं हम।
60 Total read