Sumit Maurya

September 3, 1984 - Earth

मज़हर ए नूर

तेरे देखे जो दिल में एक सूकून आ जाता है मुझको,
वही है बस वही है जीने की उम्मीद अब मेरी।
मज़हर ए नूर जो तू है मेरे चेहरे कि खूबी का,
के तुझसे दिल लगाकर और किस से दिल लगाऊं मैं।
46